Breaking
तेजप्रताप यादव बोले- हमेशा हमारे टच में रहते हैं ‘शत्रुघ्न अंकल’, पार्टी में आएं तो स्वागतबेटी के बाद CM केजरीवाल को जान से मारने की धमकीदो बदमाश ने डांसरों से की मारपीट गाली-गलौज, घर में लगाई आग, 14 पर हुआ एफ आई आर दर्जअयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण को लेकर जगदीशपुर के हिंदू युवाओं ने किया हवन पूजनछिनतई का विरोध करने पर अपराधियों ने फौजी सहित दो को मारी गोली, दोनों पटना रेफरफ़िल्म व कविता लेखन की कार्यशाला में बने फिल्मों का हुआ प्रदर्शनDLED प्रशिक्षु शिक्षकों का दो वर्षीय प्रशिक्षण का समापन सह सम्मान समारोहमोतिहारी में मुखिया के घर डबल मर्डर से इलाके में सनसनी, जांच में जुटी पुलिसहाथ जोड़कर जान की भीख मांगता रहा DSP, भीड़ ने पीट-पीटकर किया अधमराफ़िल्म मेकिंग व कविता की कार्यशाला का दूसरा दिन भी बनी 25 फिल्में ,कल होंगी प्रदर्शित कार्यशाला में निर्मित फिल्में

मधेपुरा! चौसा में नवोन्मेषी तकनीक से किया गया धान की रोपाई

मधेपुरा! चौसा में नवोन्मेषी तकनीक से किया गया धान की रोपाई

कृषि विभाग के द्वारा घोषई में श्रीविधि से धान की रोपनी प्रारंभ

✍रणजीत कुमार सिन्हा @ टुुुडे बिहार न्यूज / चौसा,मधेपुरा

 

चौसा प्रखंड अंतर्गत ग्राम पंचायत घोषई में मंगलवार को श्रीविधि तकनीक से खेती के लिए विजय कुमार शर्मा के द्वारा अपने क्षेत्र में लगाने की प्रक्रिया शुरु किया श्रीविधि एक ऐसी तकनीक है जिसके माध्यम से कम बीच में अधिक उपज की जा सकती है जिससे हम किसानो को अधिक लाभ मिल सकता है इस मौके पर श्री विधि की तकलीफ जानकारी कुंजबिहारी शास्त्री किसान सलाहकार ने दी श्री शास्त्री ने बताया कि नर्सरी की नई विधियों से कम बीज में ज्यादा उपज पाई जा सकती है। इसके लिए किसानों को अभी से ही तैयारी शुरु कर देनी चाहिए।” वो आगे बताते हैं, “श्रीविधि से किसानों को कई लाभ मिलते हैं, बीज कम लगते हैं, एक एकड़ में दो किलो ही बीज लगता है और पानी भी कम लगता है। इस विधि में मजदूर भी कम लगते हैं। परंपरागत तरीके की अपेक्षा खाद एवं दवा कम लगती है, प्रति पौधे कल्ले की संख्या और बालियों में दानों की संख्या ज्यादा होती है, दानों का वजन और उपज दो गुना हो जाता है।

?श्री विधि से धान की नर्सरी तैयार करने का तरीका

?बीजोपचार विधि:

एक एकड़ जमीन के लिए दो किलोग्राम बीज लें। तैरते हुए बीजों को निकाल कर फेंक दें क्योंकि वो खराब हैं। स्वस्थ बीजों से नमक को हटाने के लिए साफ पानी से धोएं। कार्बेन्डाजाईम से बीज को उपचारित करें।

?नर्सरी की तैयारी:

जमीन से चार इंच ऊंची नर्सरी तैयार करें, जिसके चारों ओर नाली हो। नर्सरी में गोबर की खाद अथवा केंचुआ खाद डाल कर भुरभुरा बनाएं। नर्सरी की सिंचाई करें। सिंचाई के बाद उनमें बीज का छिड़काव करें।खेती की तैयारी: खेती की तैयारी परंपरागत तरीके से की जाती है, केवल इतना ध्यान रखा जाता है कि ज़मीन समतल हो। पौध रोपण के 12 से 24 घंटे पूर्व खेत की तैयारी करके एक से तीन सेमी से ज्यादा पानी खेत में नहीं रखा जाता है। पौधा रोपण से पहले खेत में 10 गुणा 10 इंच की दूरी पर निशान लगाया जाता है। पौधे के बीच उचित लाइन बना ली जाती है। इससे निशान बनाने में आसानी होती है। निशान लगाने का काम पौधा रोपण से छह घंटे पूर्व किया जाता है।

?नर्सरी में पौधा उठाने का तरीका

इसके तहत 15 दिनों के पौधे को रोपा जाता है, जब पौधे में दो पत्तियां निकल आती हैं। नर्सरी से पौधों को निकालते समय इस बात की सावधानी रखी जाती है कि पौधों के तने व जड़ के साथ लगा बीज न टूटे व एक-एक पौधा आसानी से अलग करना चाहिए और पौधे को एक घंटे के अंदर लगाना चाहिए।

?खेत में रोपाई करना:

पौधा रोपण के समय हाथ के अंगूठे एवं वर्तनी अंगुली का प्रयोग किया जाता है। खेत में डाले गए निशान की प्रत्येक चौकड़ी पर एक पौधा रोपा जाता है। नर्सरी से निकाले पौधे की मिट्टी धोए बिना लगाएं और धान के बीज सहित पौधे को ज्यादा गहराई पर रोपण नहीं किया जाता है।

?खरपतवार का नियंत्रण :

इस विधि में खरपतवार नियंत्रण के लिए हाथ से चलाए जाने वाले वीडर का इस्तेमाल किया जाता है। वीडर चलने से खेत की मिट्टी हल्की हो जाती है और उसमें हवा का आवागमन ज्यादा हो जाता है। इसके अतिरिक्त खेतों में पानी न भरने देने की स्थिति में खरपतवार उगने को उपयुक्त वातावरण मिलता है।

?सिंचाई एवं जल प्रबंधन:

इस विधि में खेत में पौध रोपण के बाद इतनी ही सिंचाई की जाती है जिससे पौधों में नमी बनी रहे। परंपरागत विधि की तरह खेत में पानी भर कर रखने की आवश्यकता नहीं होती है।

?रोग व कीट प्रबंधन:

इस विधि में रोग और कीटों का प्रकोप कम होता है, क्योंकि एक पौधे से दूसरे पौधे की दूरी ज्यादा होती है। जैविक खाद का उपयोग भी इसमें सहायक है। कई प्राकृतिक तरीके और जैविक कीटनाशक भी कीट प्रबंधन के लिए उपयोग किए जाते हैं। किसान सलाहकार कुंजबिहारी शास्त्री खेत पर मौजूद होकर किसान के साथ श्री विधि धान की रोपाई करवाई। इस मौके पर विजय शर्मा, वार्ड सदस्य रविंद्र शर्मा ,उप मुखिया  घोषई झाखो महतो,शांति देवी, नीलम देवी, संगीता देवी आदि  मौजूद रहे।

ब्यूरो मधेपुरा: कुन्दन घोषईवाला

Share this
Show Buttons
Hide Buttons