Breaking
पूर्व मुखिया पप्पू सिंह के भाई गुड्डू सिंह को अपराधियों ने मारी गोली, गंभीर हालत में पटना रेफरआखिर भोजपुर के छोटे राजा क्यों नाराज है पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव से, कह दी है बड़ी बात ,जाने इस एक्सक्लूसिव रिपोर्ट मेंसासाराम से छेदी पासवान को टिकट मिलने पर भाजपा कार्यकर्ताओं ने पोस्ट ऑफिस पर मनाया जश्नशराबबंदी को तमाचा मार कर उत्पाद सैप जवान ने ऐसे गाली गलौज देते हुए खड़ा किया हंगामापुलिस ने नरीरगिर चौक से एक शराब पियक्कड़ को किया गिरफ्तारलोकसभा चुनाव : मतदाताओं के लिए वोटर हेल्पलाइन, सी विजील एप एवं कंट्रोल रूम का हुआ गठनवाइस एडमिरल कर्मवीर सिंह होंगे अगले नौसेना प्रमुखशिवहर के पांच हाॅट बाजारों की आज हो गई बंदोबस्ती , सरकार को 20 लाख 60 हजार 100 रुपए की हुई राजस्व की प्राप्तिडुमरी कटसरी , शहबाजपुर में हुई अगलगी की घटना में चार घर सहित लाखों की संपत्ति जलकर हुआं राखअखिलेश यादव ने कहा पीएम मोदी तय नहीं कर पा रहे हैं डगर, जेट एयरवेज ने रद की कई अंतरराष्ट्रीय उडानें

भारतीय अधिकारियों का बड़ा खुलासा, इमरान ने चोरी छिपे हड़प ली है गुरुद्वारे की जमीन

  1. *भारतीय अधिकारियों का बड़ा खुलासा- इमरान सरकार ने चोरी छिपे हड़प ली 🕍गुरूद्वारे की जमीन*

भारतीय अधिकारियों ने कहा कि पाकिस्तान ने श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए गलियारा विकसित करने के नाम पर करतारपुर गुरूद्वारे की जमीन ‘चोरी-छिपे हड़प’ ली और इस परियोजना के लिए भारत के ज्यादातर प्रस्तावों पर आपत्ति की जो उसके ‘‘दोहरे मापदंड’’ का परिचायक है।

भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने भारत में गुरू नामक देव के श्रद्धालुओं की भावनाओं के प्रतिकूल इस पावन सिख स्थल की जमीन पर ‘धड़ल्ले से अतिक्रमण’ किये जाने के खिलाफ कड़ा विरोध दर्ज कराया। बैठक में हिस्सा लेने वाले एक सरकारी अधिकारी ने कहा, ‘पाकिस्तान झूठे वादे और ऊंचे दावे करने एवं जमीनी स्तर पर कुछ नहीं करने की अपनी पुरानी छवि पर खरा उतरा है। करतारपुर साहिब गलियारे पर उसका दोहरा मापदंड बृहस्पतिवार को उसकी पहली बैठक में ही बेनकाब हो गया।’ अधिकारी ने कहा कि जिस जमीन पर अतिक्रमण किया गया है, वह महाराजा रणजीत सिंह और अन्य श्रद्धालुओं ने करतारपुर साहिब को दान में दी थी।

अधिकारी ने कहा, ‘गुरूद्वारे की जमीन पाकिस्तान सरकार ने गलियारा विकसित करने के नाम पर चोरी-छिपे हड़प ली। भारत में इस मुद्दे पर लोगों की प्रबल भावनाओं को ध्यान में रखकर इन जमीनों को पवित्र गुरूद्वारे को तत्काल लौटाये जाने की कड़ी मांग रखी गयी।’ भारत के यह स्पष्ट करने के बावजूद कि वह 190 करोड़ रूपये खर्च कर सीमा पर स्थायी और समग्र सुविधाओं का निर्माण कर रहा है, पाकिस्तान करतारपुर समझौते की अवधि को बस दो साल तक के लिए सीमित करना चाहता है।

 

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Show Buttons
Hide Buttons