Breaking
पूर्व मध्य रेल के GM एलसी त्रिवेदी ने डिहरी-ऑन-सोन तथा सासाराम रेलवे स्टेशन का किया निरीक्षणनालंदा में निकला बेरोजगारी हटाओ , आरक्षण बढ़ाओ रथ , PM मोदी को बताया अन्याय का प्रतीकनालंदा में युवक ने किया सुसाइड , पर्चे में लिखा आत्महत्या की वजहसरहद की रक्षा करने वाले भाई की बहन ने कर लिया सुसाइड , वजह जान हैरान हो जाएंगेकड़ी निगरानी के बीच बिहार बोर्ड मैट्रिक परीक्षा की पहली पाली की परीक्षा शुरूबिहार बोर्ड की Matric परीक्षा आज से शुरू , घर से निकलने से पहले जान ले ये नया नियमबिहार में दो जिलों के SP बदले , दीपक बर्णवाल बने मधुबनी के SP , औरंगाबाद के भीबिहार में 41 प्रखंडों के बीडीओ बदले , 99 CO का भी तबादलानालंदा में शिक्षा माफियाओं धांधली , परीक्षा में रजिस्ट्रेशन के नाम पर पैसे की अवैध उगाहीनालंदा में पूर्व मुखिया का दबंगई , स्कूल में जड़ दिया ताला , कहा – मेरा जमीन है

मोतिहारी में कृषि कुंभ का आगाज , राज्यपाल बोले – आनेवाले दिन में किसान कर्जमाफी के लिए नही कर्ज देने वाले हो जाएंगे

मोतिहारी ।  राज्यपाल लालजी टंडन ने कहा कि किसानों को समृद्धि के लिए सरकार की योजनाओं का लाभ लेना चाहिए। कर्ज माफी किसान के हित में जो मान रहे हैं, उससे मेरा अपना अनुभव अलग है। इससे किसान और ज्यादा कर्जदार हो जाएंगे। अगर नई तकनीक से कम लागत में अधिक उत्पादन और बचत हो तो किसान मजबूत होंगे। कुछ कर्जमाफी से कुछ नहीं होने वाला है।

राज्यपाल जिला मुख्यालय स्थित गांधी मैदान में शनिवार को तीन दिवसीय कृषि कुंभ के उद्घाटन के बाद समारोह को संबोधित कर रहे थे। कहा कि किसानों को कृषि की योजनाओं की जानकारी के साथ लाभ लेने की जरूरत है। केवल फसल उत्पादन से भला नहीं होने वाला। अनेक तरह की कृषि योजनाओं का लाभ लेकर किसान मजबूत हो सकते हैं।
राज्यपाल ने कहा कि आने वाले समय में किसान कर्जमाफी के लिए नहीं कर्ज देने की स्थिति में हो जाएंगे। कृषि में लागत से अधिक मूल्य मिलने लगेगा। जिस दिन हमारे खेत आपके पसीने से अन्न उगलना शुरू करेंगे, उस समय किसानों के बच्चे नौकरी की तलाश छोड़ कृषि से जुड़ जाएंगे।
चंपारण में दिखता है कृषि व किसानों का स्वरूप
कहा कि चंपारण में किसानों के लिए संघर्ष बापू ने किया था। उन्होंने किसानों को मजबूत करने का सपना देखा था। कृषि मंत्री राधामोहन ङ्क्षसह बापू के सपने को साकार करने में लगे हैं। दुनिया में यह संदेश जा रहा कि भारत में कृषि की उन्नति के लिए जो प्रयास हो रहे हैं, शायद अन्य देशों में नहीं हो रहा। मेरा काम किसी सरकार की व्याख्या करना नहीं है।
लेकिन, तटस्थ रूप से सरकार के काम पर निगाह रखने की जिम्मेदारी है। उस निगाह से चंपारण को एक मॉडल के रूप में देखते हैं। आने वाले समय में किसान का रूप क्या होगा और कृषि का स्वरूप क्या होगा। जैसे आप किसान हैं और बीज बोने के साथ ही अनुमान लगा लेते हैं कि फसल कैसी होगी? उस नजर से देखने पर लगता है कि कृषि के क्षेत्र में जिस प्रकार देश में कार्य हो रहा है, इस तरह पहले कभी अवसर नहीं आया।
किसानों को जीवनभर मिलेंगे छह हजार : सुशील मोदी

उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि छह हजार रुपये प्रति वर्ष पूरे जीवन किसानों को मिलेगा। यह राशि बढ़ भी सकती है। आवेदन लेने का क्रम प्रारंभ हो गया है। 12 घंटे में आठ हजार से अधिक किसानों ने आवेदन जमा कराए हैं। किसान सम्मान योजना का लाभ उठाने में हर किसान को आवेदन करने की जरूरत है।
पैक्सों के लिए नई योजना शुरू की गई है। इसमें 20 लाख रुपये तक ऋण उपलब्ध कराया जाएगा। पचास फीसद अनुदान सरकार देगी। इसे दस किस्तों में चुकाना होगा। डीजल अनुदान की राशि भी बढ़ाई गई है। बिहार सरकार फसल सहायता योजना के तहत क्षति होने की स्थिति में साढ़े सात हजार प्रति हेक्टेयर की दर से किसानों के खाते में राशि भेजी जाएगी।
तीन तालाक पर नहीं झुकेगी केंद्र सरकार : रविशंकर

केंंद्रीय विधि व न्याय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि केंद्र सरकार तीन तलाक के मुद्दे पर नहीं झुकने वाली है। 22 इस्लामिक देशों में तीन तालाक समाप्त कर दिया गया है। लोकसभा में इसे पारित कर लिया गया है। राज्यसभा में मामला फंसा है। यह मामला किसी संप्रदाय का नहीं है, बल्कि नारी के सम्मान से जुड़ा है। डिजिटल इंडिया का असर है कि गरीबों के खाते में पूरी राशि पहुंच रही है। बिचौलिए गायब हो गए हैं।
दुनिया के टॉप तीन देशों में शामिल होगा भारत : राधामोहन

केंद्रीय कृषि व किसान कल्याण मंत्री राधामोहन ङ्क्षसह ने कहा कि आने वाले 10 वर्षो में देश दुनिया के टॉप तीन देशों में शामिल होगा। कांग्रेस सरकार जो काम 55 वर्षों में नहीं किया, वह 55 महीने ही मोदी सरकार ने कर दिखाया है। प्रधानमंत्री मोदी ने सबका साथ. सबका विकास का नारा दिया। गरीबो को घरेलू गैस कनेक्शन दिए। गांवों में बिजली पहुंचाई और शौचालय बनवाए।
इसके पूर्व कर्जमाफी का नारा देकर चुनाव लड़ा जाता था। गरीब किसानों की कर्जमाफी के नाम पर घोटाला किए गए। हमारी सरकार ने गरीब किसानों को प्रति वर्ष 6 हजार रुपये देने की घोषणा की है। इससे देश पर 7.5 लाख करोड का बोझ आएगा। राज्य सरकारों से किसानों की सूची मांगी गई है। 31 मार्च तक किसानों को राशि भेज दी जाएगी।
इनकी रही उपस्थिति
समारोह में पर्यटन मंत्री प्रमोद कुमार, राजेंद्र कृषि विवि, पूसा के कुलपति रमेशचंद्र श्रीवास्तव, विधायक सङ्क्षचद्र प्रसाद ङ्क्षसह, लालबाबू गुप्ता, श्यामबाबू यादव, राजू तिवारी, विधान पार्षद बबलू गुप्ता, किसान क्लब के अध्यक्ष राजेंद्र प्रसाद गुप्ता, अखिलेश कुमार ङ्क्षसह आदि रहे।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Show Buttons
Hide Buttons