Breaking
अपने पति के घर मे छुपी थी पूर्व मंत्री मंजू वर्मा , कोर्ट में सरेंडर करते ही हो गई बेहोशअपराधियों ने अभी अभी युवक को सिर में मारी गोली मौत, पुलिस पहुंची घटनास्थल परमुख्यमंत्री नीतीश कुमार के टिप्पणी से आक्रोशित रालोसपा कार्यकर्ताओं ने फूंका सीएम का पुतला24 घंटे से गटर में जिंदगी से लड़ रहा है दीपक , अब नही मिला कोई सुराग , रेस्क्यू जारीगोपालगंज में ऑर्केस्ट्रा के नाबालिक नर्तकी के साथ रेप , शो कर के वापस लौट रही थीजगदीशपुर में भाजपा नगर मंडल की हुई बैठक , लोकसभा चुनाव को लेकर भाजपाइयों ने कसा कमरजगदीशपुर में जदयू ने सरदार पटेल की आयोजित जयंती समारोह धूमधाम से मनायाअदौरी खोरी पाकर पुल निर्माण सँघर्ष समिति ने बनायीं मानव श्रृंखलामेनहोल में गिरे दीपक का 16 घंटे बाद भी नही मिला सुराग , रेस्क्यू जारी , मासूम के लिए दुआ मांग रहा बिहारतेज रफ्तार का कहर: ट्रैक्टर ने किसान की ले ली जान, मुआवजा के लिए सड़क जाम ,हंगामा

72वां स्वतंत्रता दिवस: जानिए क्यों और कैसे 15 अगस्त को ही क्यों चुना गया था ‘आज़ादी का दिन’

आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं….!!

“जय हिन्द..!”

“भारत माता की जय…!”

नई दिल्ली: आज 15 अगस्त है यानी स्वतंत्रता दिवस , आज भारत अपने स्वतंत्रता दिवस की 72वीं सालगिरह मना रहा है।15 अगस्त 1947 में देश को ब्रितानिया हुकूमत से आजादी मिली थी। आज के दिन देश के लिए अपनी जान न्योछावर करने वाले भारत मां के सपूतो के बलिदान को याद कर उन्हें श्रद्धांजली दी जाती है। इस मौके पर आज देश के पीएम लाल किले के प्राचीर पर तिरंगा फहराने के बाद देश को संबोधित कर चुकें है।

15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाने का इतिहास काफी दिलचस्प रहा है। 1929 में तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष जवाहरलाल नेहरु द्वारा ‘पूर्ण स्वराज’ की घोषणा के बाद 1930 से 26 जनवरी को स्वतंत्रता दिवस मनाया जाने लगा था और यह सिलसिला आजादी मिलने तक चलता रहा। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद इंग्लैंड काफी कमजोर हो चुका था। ब्रिटिश संसद ने लॉर्ड माउंटबेटेन को 30 जून 1948 तक भारत को सत्ता हस्तांतरण का दायित्व सौंपा था।

दो मुल्क बनने की बात पर देश के अंदर हर जगह हिंसा और मार काट चल रही थी। सी गोपालाचारी ने कहा था कि अगर हम जून 1948 तक का इंतजार करेंगे तो सत्ता हस्तांतरित करने के लिए कुछ भी नहीं बचेगा। इसलिए लॉर्ड माउंटबेटेन ने तय तारीख से पहले अगस्त 1947 में ही सत्ता सौंपने का फैसला किया और कहा कि इससे दंगे और हत्याएं रुक जाएगी।

देश के अंदर हर जगह हिंदू और मुसलमानों के बीच दंगे हो रहे थे जिसे खत्म करना लॉर्ड माउंटबेटेन के लिए भी चुनौती बना हुआ था।

20 फरवरी 1947 को भारत का अंतिम वायसराय नियुक्त होने वाले माउंटबेटेन ने कहा था कि जहां कहीं भी औपनिवेशिक शासन का अंत हुआ है वहां हत्याएं और दंगे हुए हैं। इसकी कीमत चुकानी पड़ती है। माउंटबेटेन की जानकारी के आधार पर ब्रिटेन ने जल्द स्वतंत्र करने का फैसला किया था।

इसे देखते हुए ब्रिटिश संसद में भारतीय स्वतंत्रता अधिनियम 4 जुलाई 1947 को पेश किया गया और यह 15 दिनों के अंदर पारित हो गया। जिसमें लिखा था कि भारत में 15 अगस्त 1947 को ब्रिटिश शासन का अंत हो जाएगा। इसके अनुसार भारत और पाकिस्तान दो स्वतंत्र देश बनने तय हुए थे।

15 अगस्त की तारीख चुने जाने पर माउंटबेटेन ने बताया था कि, ‘यह तारीख मैंने गलती से बोल दी थी। जब उन्होंने पूछा कि स्वतंत्रता के लिए एक तारीख को चुनें तो मुझे अगस्त या सितंबर को चुनना था। फिर मैंने 15 अगस्त को चुना क्योंकि यह जापान के समर्पण की दूसरी वर्षगांठ थी।’

इसके बाद ही ब्रिटिश संसद में भारत की स्वतंत्रता का विधेयक पेश हुआ था। हालांकि भारत को आजादी मिलने के बाद भी लॉर्ड माउंटबेटेन 10 महीने तक भारत के पहले गवर्नर जनरल रहे थे। भारत सरकार ने बाद में पहले तय की हुई तारीख 26 जनवरी को 1950 से गणतंत्र दिवस मनाने का फैसला कर लिया।

लॉर्ड माउंटबेटेन की सलाह पर ही भारत जनवरी 1948 में कश्मीर मुद्दे को संयुक्त राष्ट्र संगठन में लेकर गया। हालांकि 200 सालों तक अंग्रेजों से लड़ाई लड़ स्वतंत्रता पाने वाला मुल्क अब तक कश्मीर मुद्दे को नहीं सुलझा पाया है और यह भारत और पाकिस्तान दोनों देशों के लिए अंग्रेजों के जाने के बाद की विरासत बना हुई है।

लॉर्ड माउंटबेटन ने अपनी किताब में बताया था कि उनके साथ मोहम्मद अली जिन्ना ने कई बार कश्मीर को लेकर बैठकें की। उन्होंने कहा था, ‘जिन्नाह का मानना था कि भारत का कश्मीर पर अधिकार महाराजा हरि सिंह की स्वेच्छा से नही बल्कि भारत का जोर जबरदस्ती से कराया हुआ षडयंत्र है।’

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Show Buttons
Hide Buttons