Breaking
तेजप्रताप यादव बोले- हमेशा हमारे टच में रहते हैं ‘शत्रुघ्न अंकल’, पार्टी में आएं तो स्वागतबेटी के बाद CM केजरीवाल को जान से मारने की धमकीदो बदमाश ने डांसरों से की मारपीट गाली-गलौज, घर में लगाई आग, 14 पर हुआ एफ आई आर दर्जअयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण को लेकर जगदीशपुर के हिंदू युवाओं ने किया हवन पूजनछिनतई का विरोध करने पर अपराधियों ने फौजी सहित दो को मारी गोली, दोनों पटना रेफरफ़िल्म व कविता लेखन की कार्यशाला में बने फिल्मों का हुआ प्रदर्शनDLED प्रशिक्षु शिक्षकों का दो वर्षीय प्रशिक्षण का समापन सह सम्मान समारोहमोतिहारी में मुखिया के घर डबल मर्डर से इलाके में सनसनी, जांच में जुटी पुलिसहाथ जोड़कर जान की भीख मांगता रहा DSP, भीड़ ने पीट-पीटकर किया अधमराफ़िल्म मेकिंग व कविता की कार्यशाला का दूसरा दिन भी बनी 25 फिल्में ,कल होंगी प्रदर्शित कार्यशाला में निर्मित फिल्में

भोजपुर डीएम ने गड़हनी प्रखंड के किया औचक निरीक्षण , अधिकारियों को दिया टास्क

भोजपुर[जितेंद्र कुमार]। सरकार की जन कल्याणकारी एवं विकासात्मक कार्यों के गुणवत्तापूर्ण एवं प्रभावी क्रियान्वयन सुनिश्चित कराने हेतु जिलाधिकारी श्री संजीव कुमार ने विभिन्न प्रखंडों के साप्ताहिक निरीक्षण कार्यक्रम के तहत गुरुवार को गड़हनी प्रखंड अवस्थित विभिन्न कार्यालयों का औचक निरीक्षण किया ।निरीक्षण के क्रम में उन्होंने प्रखंड स्तरीय अधिकारियों की उपस्थिति एवं उनके कार्यों की प्रगति का जायजा लिया एवं संबंधित अधिकारियों को कार्य में तेजी लाने तथा गुणवत्तापूर्ण रूप से कार्य का ससमय निष्पादन का निर्देश दिया।

जिलाधिकारी ने किसानों के हित में डीजल अनुदान एवं फसल सहायता योजना के कार्य में प्रगति लाने हेतु प्रखंड विकास पदाधिकारी को प्रतिदिन प्रखंड कृषि पदाधिकारी ,किसान सलाहकार एवं कृषि समन्वयक के साथ बैठक कर समीक्षा करने तथा प्रतिदिन प्रतिवेदन भेजने का निर्देश दिया ताकि सरकार की योजनाओं से अधिकाधिक किसानों को लाभान्वित किया जा सके ।डीजल अनुदान एवं फसल सहायता योजना में असंतोषजनक प्रदर्शन के कारण प्रखंड कृषि पदाधिकारी का वेतन बंद किया गया है ।समीक्षा के क्रम में प्रखंड कृषि पदाधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि फसल सहायता योजना के अंतर्गत 6000 किसानों के लक्ष्य के विरुद्ध कूल 2175 किसानों का निबंधन हुआ है ।

डीजल अनुदान की समीक्षा में पाया गया कि गड़हनी प्रखंड में 1753 किसानों का आवेदन प्राप्त हुआ है जिसमें कुरकुरी पंचायत में 64 किसानों तथा बराप पंचायत में 244 किसानों का आवेदन प्राप्त हुआ है ।जिलाधिकारी ने लंबित आवेदन के अविलंब निष्पादन का निर्देश दिया ।विदित हो कि प्रखंड अंतर्गत कुल 7 किसान सलाहकार एवं 5 कृषि समन्वयक कार्यरत हैं। उन्होंने सभी की उपस्थिति प्रखंड कार्यालय में संधारित कराने का निर्देश दिया। साथ ही प्रखंड कृषि पदाधिकारी को पंचायत वार डीजल अनुदान की स्थिति का स्पष्ट प्रतिवेदन उपलब्ध कराने को कहा ।प्रखंड सहकारिता पदाधिकारी प्रखंड से अनुपस्थित पाए गए। जिलाधिकारी ने जिला सहकारिता पदाधिकारी को प्रखंड सहकारिता पदाधिकारी के निलंबन हेतु प्रस्ताव भेजने का निर्देश दिया ।साथ ही जिला सहकारिता पदाधिकारी से भी इस आशय का स्पष्टीकरण किया गया है।

प्रोग्राम पदाधिकारी मनरेगा द्वारा बताया गया कि प्रखंड अंतर्गत कुल 4 पंचायत रोजगार सेवक कार्यरत हैं तथा कुल 22000 मानव दिवस सृजित किए गए हैं ।जिलाधिकारी ने प्रत्येक बाल विकास परियोजना पदाधिकारी को प्रतिमाह 30 आंगनवाड़ी केंद्रों की जांच करने तथा प्रत्येक महिला पर्यवेक्षिका को 40 सेंटर की जांच करने का निर्देश दिया ।जिलाधिकारी ने प्रखंड विकास पदाधिकारी को 3 वर्ष से अधिक समय से प्रखंड में कार्यरत कर्मियों की सूची उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है ।साथ ही उन्होंने कहा है कि प्रखंड में कर्मियों की संख्या पर्याप्त है इन कर्मियों का अधिकतम उपयोग करें। उन्होंने प्रखंड के प्रधान सहायक को अंचल कार्यालय लिपिक के रूप में भी कार्य करने का निर्देश दिया ।जिलाधिकारी ने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र गड़हनी का औचक निरीक्षण किया ।मौके पर प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ रीता शर्मा उपस्थित पाई गई। जबकि रोस्टर के अनुसार डॉ अभिषेक कुमार एवं डॉ संजय कुमार अनुपस्थित पाए गए। प्रभारी पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि डॉक्टर अभिषेक कुमार विभागीय प्रशिक्षण कार्यक्रम में भाग लेने हेतु पीएमसीएच पटना गए हैं जबकि डॉ संजय कुमार तन दिनों से अस्पताल नहीं आए हैं तथा छुट्टी हेतु कोई आवेदन नहीं दिए हैं। साथ ही द्वितीय पाली में आवंटित ड्यूटी के अनुसार डॉक्टर सतीश कुमार भी अपने कर्तव्य से अनुपस्थित पाए गए। जिलाधिकारी ने बिना अधिकृत छुट्टी के कर्तव्य से अनुपस्थित डॉक्टर पर कार्रवाई करने का निर्देश दिया ।उन्होंने एएनएम, जनरेटर, गार्ड, साफ सफाई, भोजन की गुणवत्ता ,वार्ड की स्थिति आदि का भी जायजा लिया। उन्होंने पी एचसी की समुचित साफ सफाई पर विशेष ध्यान देने का निर्देश दिया। साथ ही प्रखंड विकास पदाधिकारी को रोगी कल्याण समिति की नियमित बैठक करने का निर्देश दिया। जिलाधिकारी ने जांच घर के बाहर रोगियों की सुविधा हेतु एक विस्तृत जांच सूची टांगने का निर्देश दिया ।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Show Buttons
Hide Buttons