Breaking
तेजप्रताप यादव बोले- हमेशा हमारे टच में रहते हैं ‘शत्रुघ्न अंकल’, पार्टी में आएं तो स्वागतबेटी के बाद CM केजरीवाल को जान से मारने की धमकीदो बदमाश ने डांसरों से की मारपीट गाली-गलौज, घर में लगाई आग, 14 पर हुआ एफ आई आर दर्जअयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण को लेकर जगदीशपुर के हिंदू युवाओं ने किया हवन पूजनछिनतई का विरोध करने पर अपराधियों ने फौजी सहित दो को मारी गोली, दोनों पटना रेफरफ़िल्म व कविता लेखन की कार्यशाला में बने फिल्मों का हुआ प्रदर्शनDLED प्रशिक्षु शिक्षकों का दो वर्षीय प्रशिक्षण का समापन सह सम्मान समारोहमोतिहारी में मुखिया के घर डबल मर्डर से इलाके में सनसनी, जांच में जुटी पुलिसहाथ जोड़कर जान की भीख मांगता रहा DSP, भीड़ ने पीट-पीटकर किया अधमराफ़िल्म मेकिंग व कविता की कार्यशाला का दूसरा दिन भी बनी 25 फिल्में ,कल होंगी प्रदर्शित कार्यशाला में निर्मित फिल्में

भूल जाइए धवन व विजय को, टेस्ट में टीम इंडिया को मिल सकती है नई ओपनिंग जोड़ी

नई दिल्ली भारतीय टेस्ट टीम में ओपनर बल्लेबाज को लेकर पिछली कुछ समय से काफी घमासान मचा हुआ है। टेस्ट टीम में ओपनर के तौर पर मुरली विजय, शिखर धवन और लोकेश राहुल को इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में आजमाया गया लेकिन कोई खास नतीजा सामने नहीं आया और हमें सीरीज गंवानी पड़ी थी। उस टेस्ट सीरीज के बाद ये सवाल उठने लगे कि अब टीम इंडिया को टेस्ट क्रिकेट में नई ओपनिंग जोड़ी को आजमाया जाना चाहिए। हालांकि इस समस्या का समाधान अब तक नहीं हुआ है लेकिन सेलेक्टर्स ने एक अहम फैसला करते हुए वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट सीरीज के लिए घरेलू स्तर पर लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे ओपनर बल्लेबाज पृथ्वी शॉ और मयंक अग्रवाल को टीम में शामिल किया। यानी फिलहाल जो टेस्ट टीम घोषित की गई है उसमें तीन ओपनर बल्लेबाज हैं जिसमें इन दोनों के अलावा लोकेश राहुल भी शामिल हैं।

जहरीली शराब से रांची में अब तक सात मौतें, कोई नहीं है फुलमनि का शव उठानेवाला …

पृथ्वी शॉ व मयंक अग्रवाल को टेस्ट टीम में एंट्री तो मिल गई है लेकिन सबसे बड़ा सवाल ये है कि क्या इन दोनों बल्लेबाजों को टेस्ट टीम में बतौर ओपनर उतारा जाएगा। इसमें कोई शक नहीं कि पिछले कुछ वक्त से पृथ्वी शॉ हों या मयंक इन दोनों का बल्ला खूब चल रहा है और ये दोनों लगातार रन बना रहे हैंं। मयंक तो इन दिनों रन मशीन बने हुए हैं। घरेलू मैच हो या फिर इंडिया ए या इंडिया बी के लिए खेलने की बात हो मयंक रन बना ही रहे हैं। मयंक का चुनाव वैसे तो इंग्लैंड दौरे के लिए भी हो जाता लेकिन ऐसा नहीं हो पाया पर इस बार वो टेस्ट टीम में जगह बनाने में सफल रहे। इंडिया ए की तरफ से इंग्लैंड दौरे में खूब सफल रहने के बाद मयंक ने इंडिया ए के लिए खेलते हुए दक्षिण अफ्रीका ए के खिलाफ 220 रन की पारी खेली। इसके बाद उन्होंने इंडिया बी के लिए खेलते हुए इंडिया ए के खिलाफ 124 रन की पारी खेली। इसके बाद विजय हजारे ट्रॉफी में भी उन्होंने अपनी टीम कर्नाटक के लिए अच्छा खेला। अब सबसे बड़ी बात ये है कि इनफॉर्म बल्लेबाज मयंक वेस्टइंडीज के खिलाफ ओपनिंग करने उतरेंगे या नहीं ये देखना दिलचस्प होगा।

सत्यम हत्याकांड: आरोपी की गर्लफ्रेंड को पता था होने वाली है सत्यम की हत्या

पृथ्वी शॉ की बात करें तो इनका बल्ला भी जमकर बोल रहा है। विजय हजारे ट्रॉफी में उन्होंने मुंबई के लिए तीन मैच खेले हैं जिसमें उन्होंने 98,60,129 रन बनाए। इससे पहले इंडिया ए के लिए खेलते हुए उन्होंने हाल ही में दक्षिण अफ्रीका ए के खिलाफ 136 रन जबकि वेस्टइंडीज ए के खिलाफ खेलते हुए 188 रन की पारी खेली थी। इंग्लैंड दौरे पर भी इंडिया ए के लिए खेलते हुए पृथ्वी ने तीन शतक लगाए थे। यानी पृथ्वी भी कमाल की फॉर्म में चल रहे हैं। अब देखने वाली बात ये होगी कि क्या टीम इंडिया इन दोनों बल्लेबाजों को ओपनर के तौर पर वेस्टइंडीज के खिलाफ मैदान पर उतार सकती है।

भारतीय टीम मैनेजमेंट के सामने एक बड़ी चुनौती ये आ सकती है कि वो वेस्टइंडीज के खिलाफ इन तीनों में से किसे ओपनिंग के लिए भेजे। मयंक और पृथ्वी अच्छे फॉर्म में हैं तो एक जोड़ी इन दोनों की हो सकती है। लोकेश ने इंग्लैंड के खिलाफ आखिरी टेस्ट मैच में शतकीय पारी खेली थी और इनके पास उन दोनों से ज्यादा टेस्ट खेलने का अनुभव है। ऐसे में हो सकता है कि लोकेश के साथ ओपनिंग के लिए मयंक या फिर पृथ्वी को भेजा जाए। यानी हर हाल में भारतीय टीम को टेस्ट में एक नई ओपनिंग जोड़ी मिलने की उम्मीद है।

मुंगेर में सर्च ऑपरेशन के दौरान पुलिस ने जमीन खोदकर निकाले एके-47 के पार्ट्स

भारतीय टीम को वेस्टइंडीज के खिलाफ क्रिकेट सीरीज के बाद ऑस्ट्रेलिया दौरे पर जाना है। इससे पहले टीम मैनेजमेंट लोकेश के अलावा पृथ्वी व मयंक को भी आजमाना चाहती है। ऐसे में इन दोनों के पास खुद को साबित करने का बड़ा मौका है। अगर ये दोनों अंतिम ग्यारह में आते हैं  और अच्छा खेल जाते हैं तो हो सकता है इन्हें ऑस्ट्रेलिया दौरे पर जाने का मौका मिल जाए। पर एक सवाल ये भी है कि अगर ये नहीं चल पाते तो क्या टीम मैनेजमेंट अपने पुराने ओपनर्स पर ही ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए भरोसा जताएगी। यानी हमें वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट सीरीज तक बहुत ही धैर्य के साथ हर पहलू को देखना होगा।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Show Buttons
Hide Buttons