Breaking
तेजप्रताप यादव बोले- हमेशा हमारे टच में रहते हैं ‘शत्रुघ्न अंकल’, पार्टी में आएं तो स्वागतबेटी के बाद CM केजरीवाल को जान से मारने की धमकीदो बदमाश ने डांसरों से की मारपीट गाली-गलौज, घर में लगाई आग, 14 पर हुआ एफ आई आर दर्जअयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण को लेकर जगदीशपुर के हिंदू युवाओं ने किया हवन पूजनछिनतई का विरोध करने पर अपराधियों ने फौजी सहित दो को मारी गोली, दोनों पटना रेफरफ़िल्म व कविता लेखन की कार्यशाला में बने फिल्मों का हुआ प्रदर्शनDLED प्रशिक्षु शिक्षकों का दो वर्षीय प्रशिक्षण का समापन सह सम्मान समारोहमोतिहारी में मुखिया के घर डबल मर्डर से इलाके में सनसनी, जांच में जुटी पुलिसहाथ जोड़कर जान की भीख मांगता रहा DSP, भीड़ ने पीट-पीटकर किया अधमराफ़िल्म मेकिंग व कविता की कार्यशाला का दूसरा दिन भी बनी 25 फिल्में ,कल होंगी प्रदर्शित कार्यशाला में निर्मित फिल्में

डीएलएड का रिजल्ट अविलंब प्रकाशित किया जाय ,शिक्षक संघ गोपगुट ने जिलाधिकारी भोजपुर को ज्ञापन सौंपा।

 

रिपोर्ट तारकेश्वर प्रसाद

आरा। शिक्षा विभाग बिहार सरकार के अपर मुख्य सचिव द्वारा 31 मार्च 2019 तक हर हाल में प्रशिक्षण पूर्ण करने अन्यथा शिक्षकों के सेवामुक्त हो जाने संबंधी आदेश के आलोक में आज टीईटी एसटीईटी उत्तीर्ण नियोजित शिक्षक संघ गोपगुट ने जिलाधिकारी भोजपुर को ज्ञापन सौंपा। मुख्यमंत्री के नाम इस ज्ञापन में संगठन ने सरकार से डीएलएड के रिजल्ट के अविलंब प्रकाशन , सत्रांत परीक्षा उपरांत ही प्रशिक्षु शिक्षकों को विरमित करने, व प्रशिक्षणरत शिक्षकों के लिए प्रशिक्षण प्राप्त करने की तय समय सीमा 31 मार्च 2019 को आगे बढाने की मांग की है । संगठन के जिलाध्यक्ष रामनानुज सिंह ने बताया की अपर मुख्य सचिव शिक्षा विभाग के पत्रांक -12/ वि.स. -05/2018-502 दिनांक 23-11-2018 के जरिये राज्य के सभी प्रशिक्षण संस्थानों से 31 मार्च 2019 तक प्रशिक्षण कार्य पुरा करने का निदेश दिया है अन्यथा की स्थिति में शिक्षकों के सेवामुक्त होने की बात कही है । जबकि आलम यह है कि अबतक सूबे के प्रशिक्षण कालेजों के कई सत्रों के परीक्षा परिणाम नही प्रकाशित हुए हैं जबकि सत्र 2017-2019 के प्रशिक्षु शिक्षकों के परीक्षा फार्म तक नही भराये गये हैं । पूर्व के सत्रांत परीक्षा में बैठे प्रशिक्षुओं के अनुतीर्णता की स्थिति में उन्हें फिर से परीक्षा में बैठने की जरूरत होगी । वहीं राज्य से बाहर के प्रशिक्षण कालेजों को इस बाबत कोई निदेश नही जारी किया है जिस वजह से शिक्षकों में भारी उहापोह की स्थिति है । गौरतलब है कि बिहार के प्रशिक्षण कालेजों को 2017-2019 की सत्रांत परीक्षा व परीक्षा परिणाम 31मार्च 2019 तक हर हाल में घोषित करने का निदेश दिया गया है जबकि बिहार के बाहर के प्रशिक्षण कालेजों में सत्रांत परीक्षा जुन जुलाई तक संपन्न होगी । इस स्थिति में सरकार को भारत सरकार के गजट के आलोक में बिहार के बाहर के कालेजों के नाम भी एक पत्र जारी करना चाहिए । अन्यथा की स्थिति में सरकार को प्रशिक्षणरत शिक्षकों के लिए प्रशिक्षण पूर्ण करने की तय सीमा अवधि 31मार्च 2019 में विस्तार वास्ते पहलकदमी उठाने की जरूरत है ।
संगठन के संयोयक शशांक पांडे, सह-संयोयक आशा पांडे, वरीय उपाध्यक्ष प्रेमचंद सिंह कुशवाहा, पांडे,जिला उपाध्यक्ष शिव कुमार प्रसाद ,तनवीर अली, नितेश कुमार यादव ,जिला महासचिव जयप्रकाश, जिला सचिव आशीष उपाध्याय ,हरेंद्र सिंह कोषाध्यक्ष बंशीधर सिंह कुशवाहा, प्रवक्ता कुमार पंकज, चंद्रकांत भट्ट,मीडिया प्रभारी अनिल राय ने कहा कि यदि हमारे मांगों पर सकारात्मक पहल नही हुआ तो संघ आंदोलन करने को विवश होगा।

Share this

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Show Buttons
Hide Buttons